सेशन शुरू, एडमिशन भी जारी, आईपी गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी

Published: Monday, Sep 05,2011, 21:30 IST
Source:
0
Share
सेशन शुरू, एडमिशन, आईपी, गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी

गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ (आईपी) यूनिवर्सिटी में एडमिशन प्रोसेस खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। मार्च से स्टूडेंट्स को आईपी के फॉर्म मिलने लग गए थे और अब भी कई टॉप कोर्सेज की सेकंड काउंसलिंग होनी बाकी है। यानी सितंबर महीने में भी एडमिशन प्रोसेस चलता रहेगा। यूनिवर्सिटी में नया सेशन 1 अगस्त से शुरू हो चुका है और सेमेस्टर एग्जाम की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं, लेकिन काफी सीटें भरी जानी बाकी हैं। सितंबर में एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स को एडमिशन लेते ही एग्जाम की तैयारी करनी होगी।

शुक्रवार से यूनिवर्सिटी में बीए एलएलबी और बीबीए एलएलबी की सेकंड काउंसलिंग शुरू हुई है। बीबीए यूनिवर्सिटी के पॉपुलर कोर्सेज में से एक है और इस कोर्स की सेकंड काउंसलिंग जुलाई के आखिर मेें होनी थी, लेकिन अब 6-7 सितंबर से इस कोर्स में एडमिशन का प्रोसेस फिर से शुरू किया जाएगा। जानकारी के मुताबिक, बीबीए की सेकंड काउंसलिंग में करीब 1300 सीटें हैं। जानकारों का कहना है कि इस समय तक स्टूडेंट्स किसी न किसी यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले चुके हैं और बीबीए की सभी 1300 सीटें भरना बहुत ही मुश्किल है। लेट काउंसलिंग के चलते पिछले साल भी बीबीए की काफी सीटें खाली रह गई थीं। पोस्ट ग्रैजुएशन लेवल पर एमसीए और एमबीए दो बड़े कोर्स हैं और इन कोर्सेज की सेकंड काउंसलिंग की डेट भी अब फाइनल हो पाई है। एमसीए की सेकंड काउंसलिंग 10 सितंबर और एमबीए की 11 सितंबर को होगी। एमटेक (रेग्युलर) प्रोग्राम की सेकंड काउंसलिंग 6 सितंबर को होगी। लेटरल एंट्री बी. टेक की सेकंड काउंसलिंग 9 सितंबर से होगी।

आईपी यूनिवर्सिटी में सबसे पहले एडमिशन प्रोसेस शुरू होता है और सबसे देर तक चलता है। आईपी से जुड़े सेल्फ फाइनैंसिंग इंस्टिट्यूशन भी इससे परेशान हैं। असोसिएशन ऑफ सेल्फ फाइनैंसिंग इंस्टिट्यूशन के अध्यक्ष रामनिवास जिंदल का कहना है कि दिल्ली सरकार और यूनिवर्सिटी अधिकारियों के साथ हुई मीटिंग में यह तय हुआ था कि इस बार 31 जुलाई से पहले सेकंड काउंसलिंग पूरी हो जाएगी, लेकिन अब तक प्रोसेस चल रहा है। उनका कहना है कि इस लेटलतीफी के कारण सेल्फ फाइनैंसिंग इंस्टिट्यूट को भी वित्तीय नुकसान उठाना पड़ता है, क्योंकि हर साल सीटें खाली रह रही हैं। उन्होंने बताया कि 28 जून को हुई मीटिंग में दिल्ली सरकार के प्रिंसिपल सेक्रेटरी, यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार और अन्य सीनियर अधिकारी मौजूद थे और काउंसलिंग प्रोसेस समय पर पूरा करने की बात कही गई थी।

Comments (Leave a Reply)