आज भी प्रज्ज्वलित है आर्य संस्कृति की ज्योति, जहाँ गूंजते हैं वेद-मंत्र : प्रबोधिनी गुरूकुल

Published: Saturday, Dec 24,2011, 01:06 IST
Source:
0
Share
आर्य संस्कृति, वेद मंत्र, प्रबोधिनी गुरूकुल, Prabodhini Gurukul, Aryan culture, Vedic chants, Sanskrit, Ved, Mantra, Education, Gurukul, IBTL

प्रबोधिनी गुरुकुल के सिद्धांत: गुरुकुल पद्धति भारत भूमि के महान ऋषि मुनियों द्वारा शिक्षा प्रदान करने हेतु किए गए प्रयोगों से निकले सिद्धांतों पर आधारित है | आध्यात्म शिक्षा की आधारशिला है | शिक्षा का उद्देश्य बालक के व्यक्तित्व का  शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक एवं आधात्मिक अर्थात समग्र विकास होता है | स्वाध्याय, स्व-चिंतन, स्वानुशासन, एवं स्वावलंबन गुरुकुल जीवन के चार स्तंभ हैं | धर्म, श्रद्धायुक्त समर्पण, एवं राष्ट्रप्रेम के आदर्श प्रत्येक शिक्षार्थी के व्यक्तित्व में प्रस्फुटित एवं पल्लवित होने चाहिए | मनुष्य का प्रकृति के साथ सह-अस्तित्व आवश्यक है क्योंकि सभी जीवित प्राणी इस जीवन रुपी महान तीर्थ यात्रा में सहयात्री हैं |

अध्यक्ष, प्रबोधिनी ट्रस्ट, चित्रकूट, हरिहरपुर,
तालुक कोप्पा जिला : चिकमगलूर, कर्नाटक, पिन : ५७७१२०, भारत
संपर्क सूत्र +९१ ८२६५ २७४ २३२ | ई-मेल : info@prabodhinigurukula.org

- - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -
In English : The flame of Aryan culture is still lit, where Vedic chants reverberate: Prabodhini Gurukul
- - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -

prabodhini-gurukula-IBTL
# समाराधना हेतु प्रस्थान

prabodhini-gurukula-IBTL
# गुरुकुल गुल्प

prabodhini-gurukula-IBTL
# प्रदर्शनी अवलोकन

prabodhini-gurukula-IBTL
# बाल ऋषि

prabodhini-gurukula-IBTL
# गुरु-शिष्य संवाद

prabodhini-gurukula-IBTL
# गुरुकुल में कृषि-कर्म

prabodhini-gurukula-IBTL
# पारंपरिक समूह भोज

Comments (Leave a Reply)