केवल ग्लेशियर से जीवित नहीं गंगा

Published: Thursday, May 03,2012, 11:33 IST
Source:
0
Share
ganga, maa ganga, glacier, himalayas, uttrakhand, ibtl samachar

हरिद्वार पवित्र नदी गंगा गोमुख ग्लेशियर के कुल तीस फीसद पानी पर ही निर्भर है, शेष 70 फीसदी गंगा का पानी भूजल एवं बरसात से आता है। राष्ट्रीय जल विज्ञान संस्थान (एनआइएच) रुड़की एवं बार्क मुंबई के वैज्ञानिकों ने चार साल के अथक प्रयास के बाद यह निष्कर्ष निकाला है।

भाभा एटॉमिक अनुसंधान संस्थान एवं बोर्ड ऑफ रिसर्च न्यूक्लियर साइंसेस के प्रोजेक्ट स्टीम फ्लो माडलिंग ऑफ भागीरथी रीवर: हाइड्रोग्राफ सेपरेशन यूजिंग आइसोटोप एंड ज्योकेमिकल टेक्निक में भागीरथी नदी के पानी के स्रोतों की जानकारी ली गई। प्रोजेक्ट टीम में राष्ट्रीय जल विज्ञान संस्थान के पूर्व उपनिदेशक डॉ. भीष्म कुमार, डॉ. एसपी राय एवं डॉ. नोबल जैकब शामिल हैं।

डॉ. एसपी राय ने बताया कि प्रोजेक्ट के लिए भागीरथी नदी के गोमुख से लेकर देवप्रयाग तक यानि अलकनंदा नदी के मिलने से पहले के क्षेत्रफल 7651 वर्ग किमी के पानी के तीन हजार से अधिक नमूने लिए। पानी के नमूनों का आइसोटोप से विश्लेषण कर निष्कर्ष निकला की भागीरथी नदी में ग्लेशियर के पानी पर कुल 25-30 फीसद तक ही निर्भर है।

# गोमुख नहीं, मानसरोवर है गंगा का उद्गम - प्रो. शर्मा
# हर दिन 290 करोड़ लीटर सीवेज करता है गंगा को मैला

भूजल से 45-55 फीसद और बरसात से 15-25 फीसद पानी प्राप्त होता है। उन्होंने बताया कि आइसोटोप से किसी भी तत्व के या इलेक्ट्रान एवं प्रोटान की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

साभार जागरण

Comments (Leave a Reply)