काले धन के जमाखोरों एवं भ्रष्टाचारियों के लिए एक दुखद सूचना, डा. स्वामी एवं पूर्व अफसरों ने खोला मोर्चा

Published: Wednesday, Dec 07,2011, 22:33 IST
Source:
0
Share
Dr. Swamy, Ajit Doval, K.N., Govindacharya, ACACI, Action Committee Against Corruption in India, Swamy against corruption, IBTL

एक " अत्यंत सुखद सूचना " के अनुसार डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी की अध्यक्षता में एक समिति ACACI (Action Committee Against Corruption in India) का गठन किया गया, जिसके सदस्य निम्नानुसार हैं -

१.) अध्यक्ष - डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी

सदस्यगण -

१) केएन गोविन्दाचार्य

२) एस गुरुमूर्ति

३) जे गोपालकृष्णन

४) के सम्पत आयंगर

५) एके डोवाल (सेवा निवृत आई.पी.एस.)

६) एस कल्याणरमण

७) बी.आर लाल (सेवा निवृत आई.पी.एस.)

8) प्रोफ़ेसर एमडी नलापत

9) सरजू राय

10) प्रोफ़ेसर आर वैद्यनाथन

11) ए सूर्यप्रकाश

12) वी सुन्दरम (सेवा निवृत आई.ए.एस.)

13) एम आर वेंकटेश


डॉ स्वामी के साथ एकत्र होकर जुड़ी हुई यह टीम बेहद समर्पित एवं साफ़ छवि वाले व्यक्तियों की टीम है, यह टीम काले धन पर अंकुश लगाने, सीबीआई को कोर्ट में रगड़ने, Participatory Note (PN Note) के जरिये शेयर बाज़ार में देश को चूना लगाने वालों तथा करमुक्त विदेशी बैंकों के देशों में जाकर सबूत जुटाने का भागीरथी कार्य करेगी। अभी तक डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी अकेले ही लड़ रहे थे, अब उनके साथ ऐसे मजबूत १०-१२ लोग और जुड़ चुके हैं, जिससे इस अभियान को और मजबूती मिलेगी…

समिति के ऑफ़िस का पता है : ए - ७७, निजामुद्दीन (पूर्व), नयी-दिल्ली - 110013 ( दूरभाष: (011) 24357388 )

बाबा रामदेव तो अपना देशहित का कार्य समूचे देश में घूम-घूमकर चला ही रहे हैं, आईये हम भी फ़ेसबुक, ट्विटर, ब्लॉगिंग एवं दैनिक जीवनचर्या में इस देशहित के कार्य में सहयोग करें। तरीका एक ही है - जनजागरण हेतु अधिकाधिक प्रयास, कांग्रेस के कुकर्मों को अपने मित्रों तक पहुँचाएं, फ़ेसबुक पर शेयर करें, विभिन्न नेट फ़ोरमों पर जाकर बात रखें… बस-ट्रेन में सफ़र के दौरान सहयात्रियों से तथ्यों और सबूतों पर आधारित शांतिपूर्ण बहस अथवा जानकारी साझा करें, जो मित्र सक्षम हैं वे कांग्रेस, सेकुलरिज़्म एवं वामपंथ की तमाम बुराईयों की छोटी-छोटी पुस्तिकाएं छपवाकर बँटवाएं…। सामूहिक प्रयास से ही हम बाबा रामदेव, डॉ स्वामी एवं अन्य देशभक्त योद्धाओं का स्वप्न साकार कर सकेंगे…

साभार सुरेश चिपलूनकर

Comments (Leave a Reply)