विकास भारती के झारखंड में शिक्षा प्रकल्प

Published: Monday, Oct 17,2011, 13:40 IST
Source:
0
Share
विकास भारती, झारखंड, प्रचार दूत, कोलेश्‍वरनाथ विद्या मंदिर, शक्तिमान विद्यालय, vikas bharati, sewa bharati,Jharkhand, Shaktiman vidhyalaya

दूरदराज के क्षेत्र में रहनेवाले अनेक वनवासी बच्चों के लिए शाला में पढ़ने जाना, यह अभी भी स्वप्नवत है| समाज का यह बहुत बड़ा हिस्सा शहरी क्षेत्र से कटा और - आरोग्य, स्वच्छता, शिक्षा आदि - प्राथमिक सुविधाओं से वंचित है| ऐसे क्षेत्र में झारखंड राज्य का बहुत बड़ा भाग आता है| विकास भारती के कार्यकर्ता इस क्षेत्र के नागरिकों को जीवनावश्यक प्राथमिक सुविधाएँ उपलब्ध कराने के लिए काम कर रहे हैं| यहॉं हम, विकास भारती द्वारा झारखंड में चलाए जा रहे कुछ शिक्षा प्रकल्पों की जानकारी लेंगे|

श्रम निकेतन

यहॉं अनाथ एवं वनवासी जमाति के बच्चों को पहली से पॉंचवी कक्षा तक शिक्षा दी जाती है| इस शिक्षा में नियमित पुस्तकी शिक्षा के साथ व्यावसायिक शिक्षा का भी समावेश है| शाला में बच्चों के निवास की भी व्यवस्था है| निकेतन के कर्मचारी इन बच्चों के साथ पारिवारिक सदस्यों जैसा स्नेहपूर्ण व्यवहार कर इन बच्चों के मानसिक विकास का भी ध्यान रखते है; उन्हें आदर्श नागरिक के रूप में संस्कारित करने का प्रयास करते है| यहॉं से शिक्षा प्राप्त करनेवाले कई लड़के-लड़कियॉं स्वयंरोजगार कर, स्वयं के साथ औरों को भी रोजगार दिलाने का काम कर रहे है| इन विद्यार्थींयों की सफलता देखकर वनवासी जनजाति के अन्य लोगों को, उनके बच्चों को शिक्षा के लिए निकेतन में भेजने की प्रेरणा मिलती है| इस प्रकार निकेतन से पढ़कर निकले विद्यार्थी समाज में, निकेतन के ‘प्रचार-दूत’ बन जाते है| देश और समाज की प्रगति के लिए यह एक शुभसंकेत है|

जत्रा ताना भगत विद्या मंदिर

ग्रामीण क्षेत्र में रहनेवाले पिछड़ी जनजाति के विद्यार्थींयों को शिक्षा देने के लिए १९८८ में यह शाला आरंभ की गई| यहॉं पहली से आठवी कक्षा तक के शिक्षा की व्यवस्था है| ग्रामीण क्षेत्र के प्रशिक्षित सेवाभावी शिक्षक अध्यापक का काम करते है| इन शिक्षकों के लिये व्यवस्थापन की ओर से समय-समय पर आवश्यक प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाती है| विद्यार्थींयों के निवास एवं अध्ययन व्यवस्था के लिए प्रशस्त भवन, खेल के लि ए मैदान और अन्य साधन-सुविधाएँ हैं| दानदाताओं की ओर से प्राप्त दान से आरंभ की गई इस शाला में नाममात्र शिक्षा शुल्क लिया जाता है| अब शाला को ‘सर्व शिक्षा अभियान’ से भी आंशिक सहायता मिलती है|

कोलेश्‍वरनाथ विद्या मंदिर

आश्रम व्यवस्था के अनुरूप, विद्यार्थींयों को पहली से आठवी कक्षा तक शिक्षा देने के लिए १९८८ में कोएल नदी के किनारे यह शाला आरंभ की गई| यहॉं नैसर्गिक वातावरण में अध्यापन होने के कारण, ग्रामीण क्षेत्र में रहनेवाले ये विद्यार्थी, वातावरण में सहजता से घुल-मिल जाते है| शिक्षा के आरंभ काल में विद्यार्थी और शिक्षकों में सही समन्वय स्थापित हो सके, इस हेतु से प्राथमिक कक्षाओं में स्थानिय उम्मीदवारों को ही शिक्षक नियुक्त किया जाता है| विद्यार्थींयों के लिए  सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते है| नियमित पढ़ाई के साथ क्रीडा, योग, व्यावसायिक शिक्षा की व्यवस्था है| शिक्षा के संदर्भ में नए अनुभव प्राप्त करने हेतु  विद्यार्थींयों कोअन्य शालाओं को भेट देने ले जाते है|

शक्तिमान विद्यालय, चिंग्री

यह शाला अपंगों के लिए है| यहॉं विद्यार्थींयों को नियमित शिक्षा के साथ, अपंगों के लिए बनाए गए कुछ विशेष प्रशिक्षण दिए जाते है| इन विद्यार्थींयों को स्वयंरोजगार आरंभ करने के लिए इस प्रशिक्षण का उपयोग होता है|

आदिम जनजातीय बालिका प्राथमिक विद्यालय

जैसे कि नाम से स्पष्ट होता है, यह शाला वनवासी बालिकाओं के लिए शुरू की गई है| आदिवासी कल्याण विभाग की सहायता से २००८ में इसकी स्थापना की गई| इस शाला ने अब शिक्षा के लिए वनवासी बालिकाओं को ढुंढना, समाज में शिक्षा और बालिका जागृति का काम भी अपने हाथों में लिया है|

संपर्क

विकास भारती मुख्य कार्यालय
ब्लॉक बिशुनपुर
जिला : गुमला ८३ ५३ ३१
झारखंड (भारत)
फोन : +९१ - ६५२३ - २७८३०६, २७८३५६
फॅक्स : + ९१ - ६५२३ - २७८३०६
ई-मेल : vikasbharti1983@hotmail.com
          ashokbhagat19@hotmail.com

कैसे पहुँचे

बिशुनपुर गुमला से ३९.४ और रांची से ९५ किलोमीटर दूर है|
हवाई मार्ग : समीपवर्ती हवाई अड्डा रांची| हवाई अड्डा रांची से करीब ७ किलोमीटर दूर| देश के मुख्य शहरों से जुड़ा|
रेल मार्ग : समीपवर्ती रेल स्थानक राची| देश के मुख्य शहरों से जुड़ा|
सड़क मार्ग : रांची, झारखंड के मुख्य शहरों के लिए बस सेवा उपलब्ध|

... ...

Comments (Leave a Reply)