नेत्रहीनों का सहायक सेवाभारती का ‘मनोनेत्र’

Published: Friday, Aug 19,2011, 12:17 IST
Source:
0
Share
सेवाभारती,  पश्‍चिम आंध्र प्रदेश,  नेत्रहीन

भारत में करीब देड करोड नेत्रहीन है| योग्य प्रशिक्षण और शिक्षा देने पर ये नेत्रहीन कई काम कर सकते है; यह बात ध्यान में रखकर सेवाभारती का मनोनेत्र प्रकल्प काम कर रहा है|

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता श्री सूर्यनारायण राव जी ने हैदराबाद में २००१ में इसकी स्थापना की| यहॉं नेत्रहीनों के लिए आवश्यक सुविधाओं से परिपूर्ण एक ऑडिओ (श्राव्य) ग्रंथालय है| छात्रावास और सेवाभारती के कार्यालय में नेत्रहीनों को आवश्यक वैद्यकीय सुविधाएँ उपलब्ध कराई जाती है| करीब २५० अंध छात्र इसका लाभ लेते है|

वारंगल और नालगोंडा इन दो शहरों में मनोनेत्र का काम चल रहा है और इसके अन्यत्र विस्तार की योजना है| नलगौंडा में एक नेत्रहीन द्वारा, नेत्रहीनों के लिए शाला चलाई जाती है, सेवाभारती यह शाला चलाने में सहयोग देती है|

निझामाबाद में नेत्रहीनों के लिए आयोजित समुपदेशन कार्यक्रम का भी अच्छा परिणाम सामने आया है| इस कार्यक्रम में आरोग्य एवं व्यक्तित्व विकास से संबंधित उपक्रमों के अलावा श्‍लोक पठन भी रखा गया था|

अब तक...

इस प्रकल्प के अंतर्गत १०० बच्चों को २९० श्राव्य पुस्तकें दी गई है और ५० के लिए परीक्षा में लेखनिक की सुविधा की गई है| १० से लेकर पदवी, और स्पर्धा परीक्षा के लिए भी नेत्रहीन विद्यार्थिंयों को सहायता दी जाती है|

आप भी सहायता कर सकते है

कार्यकर्ता बनकर, नेत्रहीनों के लिए कॅसेट रेकॉर्ड करके, नेत्रदान और इस संदेश का प्रचार कर, आप भी इस काम में सहायता कर सकते है|  

भारत के देड करोड नेत्रहीनों में २६ प्रतिशत बच्चें हैं| इन बच्चों की पुतलियॉं काम नहीं करती| नेत्रदान बहुत कम संख्या में होने के कारण प्रतिवर्ष केवल दस हजार नेत्ररुग्णों पर नेत्ररोपण हो पाता है| नेत्रदान की संख्या बढ़ने पर, पुतलियों के विकार से पीडित अनेक नेत्रहीनों को रोशनी मिल सकेगी|

सेवाभारती, अखिल भारतीय दृष्टिहीन कल्याण संघ से संलंग्नित संस्था है, और यह संघ भारत विकास परिषद के साथ मिलकर अपंगों को कृत्रिम अंग वितरित करता है| इस संस्था के पास सुसज्ज ध्वनि ग्रंथालय, लेखक क्लब, और नेत्रहीनों के लिए पाठ (अभ्यास) ध्वनिमुद्रित करने के लिए कार्यकर्ता है|  

संपर्क :

सेवाभारती, पश्‍चिम आंध्र प्रदेश
३ - २ - १०६, निंबोलिड्डा,
हैदराबाद, ५०० ०२७ (भारत)
फोन : ९१ - ०४० - ४६१००५६
इ-मेल : sevabharati@yahoo.com

कैसे पहुँचे

हवाई मार्ग : हैद्राबाद, राजीव गांधी आंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा; विदेश के अनेक प्रमुख शहरों से जुड़ा|
रेल मार्ग : सिकंदराबाद, हैद्राबाद से जुडा शहर| मुख्य रेल स्थानक और दक्षिण रेल विभाग का मुख्यालय|
सड़क मार्ग : हैद्राबाद से आंध्र प्रदेश के सब शहरों और पड़ोसी राज्यों के लिए भी बस सेवा उपलब्ध|
.............   

Comments (Leave a Reply)