गिलानी पर हमला, विद्यार्थी परिषद् एवं बग्गा ने कहा राष्ट्र-विरोधी ब्यान सहन नहीं

Published: Monday, Mar 26,2012, 17:45 IST
Source:
0
Share
सय्यद अली शाह गिलानी, राष्ट्र-विरोधी, anti-nation, bagga, abvp, bsks, kashmir

आज अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी पर भगत सिंह क्रांति सेना और दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) के उपाध्यक्ष और सचिव ने अपने समर्थकों के साथ हमला बोल दिया। दिल्ली के पॉश इलाके सिविल लाइंस में 29, राजपुर रोड पर स्थित गिलानी के निवास पर तेजिंदर पाल सिंह बग्गा, डूसू उपाध्यक्ष विकास चौधरी और डूसू सचिव विकास यादव के नेतृत्व में उनके समर्थकों ने गिलानी की टोपी हवा में उछाल कर उन पर जूता फेंका।
 
मालूम हो की गिलानी अपने साथियों के साथ सिविल लाइंस में कश्मीर पर आयोजित एक सेमीनार में हिस्सा लेने आए थे। उस समय भगत सिंह क्रांति सेना और डूसू के लोगों ने उन्हें धक्का मारते हुए नारेबाजी की। भगत सिंह क्रांति सेना और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लोगों के द्वारा की गई धक्कामुक्की में जानी-मानी पत्रकार मधु किश्वर ने बीच बचाव करते हुए हमलावारों के बीच में आ गईं।
 
तेजिंदर पाल बग्गा ने कहा कि वे लोग देश के गद्दारों के साथ ऐसा ही सलूक करेंगे। कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है। उसे अलग करने की बात करने वालों की देश में कोई जगह नहीं है। बग्गा ने कहा कि हमले के बाद पहुंची पुलिस ने हमारे 24 साथियों को गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन कुछ दूर ले जाने के बाद हमें रिहा कर दिया गया। हम ऐसे हर कार्यक्रम और लोगों का विरोध करेंगे जो देश के बंटवारे की बात करेगा।

डूसू के सचिव विकास यादव ने कहा कि "कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, वह देश का मुकुट है और उसे भारत से तोड़ने की साजिश करने वालों को देश का युवा इसी तरह मुंहतोड़ जवाब देगा |  श्री यादव ने नारेबाजी करते हुए कहा कि "जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है | जो कश्मीर हमारा है वो सारे का सारा है | ऐसे देशद्रोही, अलगाववादी लोगों को देश की राजधानी में कटाई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा |"
 
उल्लेखनीय है कि हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी ने कुछ दिन पहले ही कहा था कि अगर पाकिस्तान ने कश्मीर के मुद्दे पर अपनी पुरानी नीति में बदलाव कर भारत के साथ कोई समझौता किया तो पाकिस्तान की जनता सड़कों पर उतर आएगी। यदि कश्मीर के मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान कोई खुफिया समझौता कर भी लें तो कश्मीर और पाकिस्तान की जनता उसे नहीं मानेगी।
 
जम्मू और कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए लिखा है कि भगत सिंह क्रांति सेना और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा मूर्खतापूर्ण कार्य किया गया है। ऐसा करने से इस तरह के गंभीर मुद्दे समाप्त नहीं हो सकते हैं।
 

Comments (Leave a Reply)