कांग्रेस के हाथों देश सुरक्षित नहीं: मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल

Published: Monday, Oct 10,2011, 13:42 IST
Source:
0
Share
कांग्रेस, प्रकाश सिंह बादल, दिल्ली हाई कोर्ट, चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ

मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि कांग्रेस के हाथों में देश सुरक्षित नहीं है। कांग्रेस के शासन काल में देश पर एक से बढ़ कर एक हमले हुए हैं और सरकार रोकने में नाकाम रही है। मुख्यमंत्री रविवार को यूथ फेडरेशन फ्रंट के सम्मान समारोह में शामिल होने आए थे। उन्हें महाराजा रणजीत सिंह सम्मान से सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस शासन में कभी मुंबई पर हमला होता है तो कभी दिल्ली हाई कोर्ट परिसर में बम विस्फोट, कहीं भी कोई सुरक्षित नहीं है। उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश साजिशें कर रहे हैं।

देश की असुरक्षा के बारे में यह उनका आकलन नहीं है, बल्कि देश के चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ ने हाल ही में खुलासा किया है कि चीन के सैनिक पाकिस्तान में कई प्रोजेक्टों पर काम कर रहे हैं। यह सब इसी ओर इशारा कर रहा है कि सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। बादल ने कहा कि देश में बढ़ती गरीबी व कुव्यवस्था के कारण असंतोष पनप रहा है। इसका नतीजा यह निकला है कि देश के आधे से ज्यादा राज्य नक्सलवाद की चपेट में हैं। यह कांग्रेस के शासन की देन है। मुख्यमंत्री ने विधानसभा में कांग्रेस के रवैए पर कहा कि उसके पास जनता के लिए कोई मुद्दा है ही नहीं। इसलिए कांग्रेसी इस प्रकार की हरकत कर रहे हैं।

एसजीपीसी चुनावों में करारी शिकस्त के बाद विधानसभा में हंगामा कांग्रेसियों की बौखलाहट का नतीजा है। वह तो प्रधानमंत्री से दिल्ली मिलकर आए थे और विधानसभा में उनका धन्यवाद करना चाहते थे, लेकिन उन्हें बोलने नहीं दिया गया। खादों की कीमतों में बढ़ोतरी के प्रस्ताव पर उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार खाद की कीमतें बढ़ा रही है। एक तो कृषि फायदे का सौदा नहीं रही, फिर सरकार खादों की कीमत बढ़ाएगी तो किसानों को नुकसान होगा, लेकिन कांग्रेस सरकार को इसकी परवाह नहीं है। धान की खरीद के बारे में उन्होंने कहा कि इसे स्टोर करने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। सफाई कर्मियों की हड़ताल खत्म : मुख्यमंत्री ने रविवार को पीएयू में मुलाजिम नेताओं से मिलकर सफाई कर्मचारियों की हड़ताल खत्म करवाई। हेलीपैड पर ही मुलाजिम नेता बादल से मिले।

उन्होंने इस मुद्दे पर बात करने के लिए 21 अक्टूबर को मुलाजिम नेताओं को चंडीगढ़ बुलाया है। यूनियनों ने पिछले कई दिनों से प्राइवेट कंपनी से कूड़ा उठाने के विरोध में हड़ताल कर रखी है और प्रदेश के कई शहरों का गंदगी से बुरा हाल हो गया है।

Comments (Leave a Reply)