अनशन पर अन्‍ना: खुफिया रिपोर्ट ने उड़ाई सरकार की नींद, राहुल के मिशन को झटका

Published: Monday, Aug 22,2011, 10:33 IST
Source:
0
Share
अनशन, अन्‍ना, कांग्रेस, महासचिव, राहुल गांधी, खुफिया रिपोर्ट

अन्ना हजारे के अनशन का आज सातवां दिन है। उनके आंदोलन को मिल रहे जबरदस्‍त समर्थन के बावजूद सरकार भले ही निश्चिंत दिखने की कोशिश कर रही है, लेकिन खुफिया एजेंसियों द्वारा देशभर से भेजी जा रही रिपोर्टों ने सरकारी हुक्मरानों की नींद उड़ा दी है। खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट है कि सोमवार को जन्माष्टमी के दिन रामलीला मैदान में कहीं ज्यादा भीड़ उमड़ेगी। इन सूचनाओं के बाद दिल्ली की सुरक्षा एजेंसियों को सतर्क कर दिया गया है और दिल्ली पुलिस भी नए सिरे से रणनीति बनाने में जुट गई है।

सूत्रों के मुताबिक इसी के चलते गृह मंत्रालय से भी पुलिस को कुछ खास निर्देश दिए गए हैं। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता राजन भगत ने भी माना है कि जन्माष्टमी के दिन रामलीला मैदान में पहुंचने वाली भीड़ को ध्यान में रखते हुए पुलिसकर्मियों की संख्या में 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई है। हालांकि यह बात पुलिस को थोड़ी राहत देने वाली है कि इस जबरदस्त भीड़ के बावजूद रामलीला मैदान में स्वत: ही अनुशासन बना हुआ है।

सूत्रों के मुताबिक खुफिया एजेंसियों ने शनिवार रात को रिपोर्ट दी थी कि रविवार को दोगुना लोग रामलीला मैदान पहुंचेंगे। इस रिपोर्ट के बाद दिल्ली पुलिस ने रामलीला मैदान में पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाई। यहां तक कि जो दरवाजे बंद थे, उन्हें भी रविवार को खोल दिया गया। हर दरवाजे पर लंबी-लंबी लाइनें लगी रहीं। आलम यह था कि रामलीला मैदान से लेकर नई दिल्ली मेट्रो स्टेशन के अंदर तक झंडे लेकर खड़े लोगों की लाइन लगी हुई थी। पुलिस विभाग ने तीन चरणों में पुलिसकर्मियों की आठ-आठ घंटे ड्यूटी लगाई है।

अन्ना की मुहिम से मिशन राहुल को झटका
अन्ना की मुहिम ने कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी को तगड़ा झटका दिया है। यूपी में मिशन 2012 को परवान चढ़ाने में लगे राहुल को अब इंतजार है कि किस तरह से अन्ना की आंधी थमे। बड़ी दिक्कत यह है कि इस समय राहुल के पास ऐसा कोई फार्मूला भी नहीं नजर आ रहा, जो अन्ना के आंदोलन की काट बन सके। ऐसे में उनके खास सिपाहसलार कुछ ऐसा तलाश रहे हैं जिससे किसानों का दिल जीता जा सके। ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश से कहा गया है कि वे भूमि अधिग्रहण विधेयक को ऐसे रूप में पेश करें जो राहुल गांधी के मिशन के लिहाज से तुरूप का पत्ता साबित हो। जयराम भी अपना धर्म निभाने में जुटे हैं। विधेयक के एक- एक प्रावधानों पर राहुल टीम की सलाह ली जा रही है।

कांग्रेस में 'फ्री फार ऑल'
कांग्रेस में इन दिनों फ्री फार ऑल जैसी स्थिति है। जिसे जो मन में आ रहा है वह बोल रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी स्वास्थ्य संबंधी कारणों से विदेश में हैं। राहुल गांधी सहित 4 सदस्यीय कमेटी को उनके कामकाज का जिम्मा दिया गया है। लेकिन यह कमेटी कोई भी अहम फैसला करने से कतरा रही है। कहा जा रहा है कि इस कमेटी की सक्रियता से खुद प्रधानमंत्री की अथारिटी और प्रणब दा जैसे वरिष्ठ नेताओं की महत्ता को ठेस पहुंचने का मैसेज जा सकता है।


Comments (Leave a Reply)