क्या स्वतंत्र भारत में ऐसा भी होता है ? काश मेरे इन सवालों का जबाब मिल पाता !

Published: Monday, Sep 19,2011, 23:44 IST
Source:
0
Share
प्रसव – पीड़ा, अस्पताल, यीशु का रक्त, स्वतंत्र भारत

मेरे पति को ईसाईयों ने जान से ख़त्म कर दिया क्योंकि वो ईसाई नहीं बने ! गोद में दुधमुहे बच्चे को लेकर सिसकते हुए अर्चना भार्गव जी जो कि छतीसगढ़ राज्य के विलासपुर जिले के परसापन गाँव से दिल्ली के लोक कला मंच ( नजदीक जवाहरलाल स्टेडियम ) , में ५-६ सितम्बर , २०११ को Forum for Social Justice , New Delhi द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम ” National Tribunal & Workshop on Evangelism : Impact of faith, Culture Economy & Life of Indigenous Tribes Of India ” में Jury जिसमे Sh. K. P. S. Gill, IPS ( Retd.) , Sh. P.C.Dogra , Former DGP, Punjab , Justice V. K. Gupta ( Retd.) , Justice Soni ( Retd.) , Justice D.S. Tevatia ( Retd.) , J. P. Rajkhowa ( Former Chief Secretary , Assam) आदि लगभग १५ सदस्य मौजूद थे , से अपनी व्यथा बताने के लिए आई थी ! जैसे उन्होंने पति के क़त्ल की बात बताई एक पल के लिया चारो तरफ सन्नाटा छा गया , मानो समय ठहर सा गया ! सिर्फ बच्चा जो उनकी गोद में था बस उसी के रोने की आवाज पूरे हाल में गूं ज रही थी !

शायद उस बच्चे ने इतने जलते हुए बल्ब की रोशनी और इतनी भीड़ पहली बार देखी थी इसलिए उसका लगातार रोना जारी रहा ! जूरी सदस्यों के पूछने पर उन्होंने आगे जो बताया वो और भी रोंगटे खड़े कर देने वाला था ! उन्होंने बताया कि उनके गाँव में लगभग दो तिहाई ईसाई आबादी है , लगभग ५ गिरजाघर ( चर्च ) है ! विधायक को कभी देखा नहीं इसलिए उनके बारे कुछ जानती नहीं परन्तु गाँव का सरपंच भी ईसाई ही है , पुलिस-प्रशासन भी उन्ही बहूल आबादी की ही अर्थात ईसाई समाज की ही सुनता है ! वो आगे बताती है कि पहले गाँव के लोगों को लालच देकर जैसे कम्बल , वर्तन, प्लेट, गद्दा, दवाई इत्यादि देकर ईसाई धर्म स्वीकार करने के लिए कहते है , न मानने पर जान से मारने की धमकी देते है , फिर भी न मानने पर वो जान से मार देते है बताते हुए फूट – फूट कर रोने लगती है !

वो प्रसव – पीड़ा के दर्द से चिल्ला रही थी , बार – बार अस्पताल ले जाने के लिए कह रही थी परन्तु वहाँ के स्थानीय लोगों ( ईसाई मतावलंबी ) ने जबरदस्ती उसे पास के ही चर्च में ले गए ! वहा के फादर ने उसे एक शीशी में कुछ यह कहकर दिया कि यह प्रभू यीशु का रक्त है इसे पीने पर उसे दर्द से मुक्ति मिल जायेगी ! और हुआ भी ऐसा ही उसे सदा के लिए इस दुनिया से ही मिक्ती मिल गयी , जब बुंदिया भाई तेजा जो कि गुजरात राज्य के दाहोद जिले के निवासी है ने यह बात जूरी को बताई तो वहा उपस्थित सभी लोगो का ह्रदय सिहर उठा ! बुंदिया भाई तेजा किसी निजी कंपनी में तीन हजार रूपये मासिक वेतन पर नौकरी करते है ! उन्होंने आगे आपबीती सुनायी कि किस प्रकार उन्हें वहां के फादर द्वारा एक मोटरसाईकिल , छः हजार रुपये मासिक की नौकरी का प्रलोभन दिया गया ! प्रलोभन के बहकावे जब धर्म परिवर्तन की बात उन्होंने नहीं मानी तो कुछ समय बाद घात लगाकर उन्हें जान से मारने के उद्देश्य से उनके सिर पर कुल्हाड़ी से वार किया गया ! संयोग से कुल्हाडी कान के पास लगी और वो जान बचाकर वहा से भागे तो जाकर उनकी जान बची , जूरी को घाव के निशान को दिखाते हुए बुंदिया भाई तेजा ने बताया ! वो आगे बताते है कि किस प्रकार चर्च के पादरी द्वारा हमारे देवी-देवताओं का अपमान जैसे उन्हें राक्षस , भूत-प्रेत आदि की संज्ञा देकर उन पर थूकते है तो वही अपने भगवान् को विश्व में शांति का दूत बताकर उन्हें धर्म बदलने के लिए उन पर दबाव डालते है !

ईसाई मिशनरियों द्वारा ईसाई न बनने पर किस प्रकार उनकी जबरदस्ती जमीन हड़प ली जाती है , उनके गाँव के गाँव जला दिए जाते है आदि आदि अपनी – अपनी व्यथा बताने के लिए देश भर के लगभग १०० जन – जातियों के लोग जूरी के सामने इकठ्ठा हुए थे !

मुझे अपने कानो पर विश्वास नहीं हो रहा था कि ये लोग आज भी अपने स्व – धर्म के लिए इतना अत्याचार सहते है ! एक पल के लिए मै इतिहास के पन्नो में खो गया , मुझे कभी उस छोटे से वीर बालक हकीकत राय की याद आती तो कभी मुगलिया क्रूर और अत्याचारी शासक औरंगजेब का ध्यान आता जिसकी वजह से धर्म की रक्षा के लिए गुरु तेग बहादुर और उनके दोनों बच्चे जोरावर सिंह और फ़तेह सिंह का बलिदान हुआ ! यह मैंने इतिहास की पुस्तकों में सिर्फ पढ़ा था परन्तु आज इनकी व्यथा इनकी जुबानी सुनते हुए महसूस भी कर रहा था ! इतिहास में तो पूरा मुग़ल कल उनके अत्याचओं से पटा पड़ा है !

महात्मा गांधी जी ने ( यंग इंडिया , २३ अप्रैल , १९३१ ) के अनुसार , ” मेरी राय में दया के कार्यों की आड़ में धर्म परिवर्तन करना अहितकर है ! देश के लोग इसे नाराजगी की दृष्टि से देखते है ! धर्म एक नितांत व्यक्तिगत मामला है ! अगर कोई डाक्टर मुझे किसी बीमारी से अच्छा कर दे तो इसकी एवज में मै अपना धर्म क्यों बदलूँ ? मेरे लिए यह समझ पाना मुश्किल है कि आखिर कोई डाक्टर मुझसे इस तरह की अपेक्षा ही क्यों रखे ? क्या डाक्टरी सेवा अपने आप में एक पारितोषिक प्रदायक वृत्ति नहीं है ? अगर मै किसी ईसाई शिक्षा संस्थान में शिक्षा ग्रहण कर रहा हूँ तो मुझ पर ईसाईयत क्यों थोपी जाय ?

महात्मा गांधी जी ( हरिजन , २० अप्रैल , १९४० ) कहते है कि ” धर्म – परिवर्तन ओ जहर है जो सत्य और व्यक्ति की जड़ों को खोखला कर देता है ! मिशनरियों के प्रभाव से हिन्दू परिवार की भाषा , वेशभूषा , रीतिरिवाज के द्वारा विघटन हुआ है ! यदि मुझे कानून बनाने का अधिकार होता तो मै धर्म – परिवर्तन बंद करवा देता ! इसे मिशनरियों ने एक व्यापर बना लिया है ! ” धर्म तो आत्मा की उन्नति का विषय है ! रोती , कपडा और मकान के बदले में उसे बेचा या बदला नहीं जा सकता और धर्म – परिवर्तन द्वारा ऊँच – नीच की भावना कभी दूर नहीं हो सकती ! ”

महात्मा गांधी ( गांधी वांग्मय , खंड ४५ , पेज ३३९ ) के अनुसार ” यदि वे पूरी तरह से मानवीय कार्यों तथा गरीबी की सेवा करने के बजाय डाक्टरी सहायता , शिक्षा आदि के द्वारा धर्म – परिवर्तन करेंगे तो मै निश्चित ही उन्हें चले जाने को कहूँगा ! प्रत्येक राष्ट्र का धर्म अन्य किसी राष्ट्र के धर्म के समान ही श्रेष्ठ है ! निश्चित ही भारत के धर्म यहाँ के लोगों के लिए पर्याप्त है ! हमें धर्म – परिवर्तन की कोई आवश्यकता नहीं है !

तो क्या ऐसा मान लिया जाय कि आज गांधी जी की ये विचार प्रासंगिक नहीं रहे ? यदि ये प्रासंगिक है तो इन पर विचार क्यों नहीं किया गया ? ये वनवासी भाई ऐसी यातनाये सहने के लिए क्यों मजबूर है ?

आज २०११ में तो हम स्वतंत्र है ! हम लोकतान्त्रिक देश की श्रेणी में आते है , हमारा अपना संविधान है , हमारे मौलिक अधिकार है , धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार संविधान द्वारा हमें मिला हुआ है परन्तु जबरदस्ती धर्मांतरण का अधिकार ये कहा से आ गया जैसा कि उपरलिखित वाकयों से पता चलता है ( ईसाई मिशनरी धर्म – परिवर्तन को अपना अधिकार मानते है ) ? जबकि इन वनवासियों के अनुसार धन का बार – बार प्रलोभन इन्हें दिया जाता है , अमेरिका, इंग्लैण्ड, इटली , आस्ट्रेलिया आदि जगहों पर इन्हें बड़े बड़े सेमीनार में ले जाने के लिए प्रेरित किया जाता है , तो क्या ऐसा हो सकता है कि चर्च के इस षड्यंत्र के बारे भारत सरकार को न पता हो ? और अगर पता है तो उनके पैसों का हिसाब या उसकी देखरेख क्यों नहीं करते जबकि बाबा रामदेव , श्री अन्ना हजारे, श्री अरविन्द केजरीवाल इत्यादि के खातों की बराबर सी. बी. आई . / अन्य एजेंसियों द्वारा जाँच कराई जा रही है ? अरुणाचल राज्य के एक वनवासी ने यहाँ तक बताया कि वो भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री , और राज्य के मुख्यमंत्री से भी मिलकर इस विषय पर हस्तक्षेप करने के लिए प्रार्थना की है , परन्तु अभी तक किसी ने सुध भी नहीं ली ! इसलिए तो मै सोच ही नहीं पा रहा हूँ कि क्या स्वतंत्र भारत में ऐसा भी होता है ?

१६ अगस्त २०११ से लेकर २७ अगस्त २०११ , श्री अन्ना हजारे के नेतृत्व में व्यवस्था परिवर्तन और भ्रष्टाचार की मुक्ति की बात देश भर में सड़क से लेकर संसद तक की गयी , परन्तु क्या कभी किसी ने इन वनवासियों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ कोई अनशन या धरना प्रदर्शन इत्यादि किया ? क्या ये हमारे देश का हिस्सा नहीं है ? कभी इस षड्यंत्र की तरफ क्यों नहीं ध्यान दिया गया ?

काश मेरे इन सवालों का जबाब मिल पाता …… !

Comments (Leave a Reply)