सिद्धांत, शिष्टाचार और अवसरवादी-राजनीति

Published: Monday, Jun 24,2013, 13:35 IST
By:
0
Share
modi vs nitish, election 2014,

भारत की गठबन्धन-राजनीति के गलियारों मे अक्सर ‘गठबन्धन की मजबूरी’ का जुमला सुनने को मिल ही जाता है. इस जुमले का सहारा लेकर आये दिन राजनेता गंभीरतम बातों की भी हवा निकाल देते है. अब सवाल यह उठता है कि क्या गठबन्धन किसी सिद्धांत पर बनाये जाते है अथवा सत्ता का स्वाद चखने हेतु समझौते किये जाते है ? हमे ध्यान रखना चाहिये कि सिद्धांत और समझौता दो अलग-अलग बाते है. राजनैतिक-समझौते को हम कर्नाटक की राजनीति से समझ सकते है. एक समय में कर्नाटक में भाजपा और जनता दल सेकुलर ने मिलकर चुनाव लडा और दोनो दलों के बीच यह समझौता हुआ कि दोनो दल बारी-बारी से सरकार चलायेंगे. समझौतानुसार एच.डी. देवगौडा के सुपुत्र एच.डी. कुमारस्वामी मुखयमंत्री बने, पर जब भाजपा के यद्दयुरप्पा की मुख्यमंत्री बनने की बारी आयी तो जनता दल सेकुलर ने समझौता तोडकर भाजपा के साथ विश्वासघात करते हुए यद्दयुरप्पा को मुख्यमंत्री बनने से रोक दिया. नीतीश कुमार की सिद्धांत की नई व्याख्यानुसार सिद्धांत समझने के लिये हमे अभी हाल ही मे राजग से जनता दल यूनाईटेड के अलगाव को देखना चाहिये. नीतीश कुमार द्वारा राजग से उनके अलगाव का प्रमुख कारण भाजपा का ‘सिद्धांत से भटकाव’ है और उनकी पार्टी सिद्धांतो से समझौता नही कर सकती.

ध्यान देने योग्य है कि 16 जून को जनता दल (यू) के अध्यक्ष ने सैद्धांतिक आधार पर राजग से अलग होने की घोषणा की थी. इसके चलते नीतीश  कुमार की सरकार ने 19 जून को कांग्रेस, सीपीएम और निर्दलीय विधायकों के समर्थन से बिहार विधानसभा में विश्वासमत हासिल कर लिया. नीतीश सरकार के पक्ष में 126 वोट और विपक्ष में 24 वोट पडे जबकि भारतीय जनता पार्टी के 91 सदस्यों और लोकजनशक्ति के 1 विधायक ने सदन का वाकआउट किया. नीतीश कुमार ने बिहार विधानसभा मे लगभग आधे घंटे का एक भाषण दिया. यह भाषण इसलिए महत्वपूर्ण था क्योंकि इसमे नीतीश कुमार ने सिद्धांत और शिष्टाचार पर बहुत अधिक जोर दिया. राजग के साथ अपने 17 वर्षों के संबंध – विच्छेद पर वो सदन को बता रहे थे कि उन्होने सैद्धांतिक आधार पर राजग से अलग होने का फैसला किया. जनता दल (यू) के नेताओं के अनुसार उनके राजग मे शामिल होने का “सिद्धांत” यही था कि भाजपा पहले अपने एजेंडे में तीन विवादित बातों – राममन्दिर, धारा 370 और एक समान नागरिक संहिता को अलग करे तो वे उसके साथ सरकार बनाने मे सहयोग करेंगे. ऐसा ही हुआ और केन्द्र मे राजग की सरकार बनी. परंतु जनता दल (यू) के राजग से अलग होने पर अब देश भ्रमित हो गया है साथ ही जनता दल (यू) के द्वारा की जा रही ‘सिद्धांत की बातें’ किसी के गले से नही उतर रही. कारण बहुत साफ है कि आज जिन सिद्धांतों की दुहाई जनता दल (यू) दे रहा है उनमें से कौन सा ऐसा सिद्धांत है जिसे भाजपा ने तोडा हो ? भाजपा ने अबतक राजग के एजेंडे से कोई छेडछाड नही की और न ही उसने 2014 के लोकसभा-चुनाव का अपना कोई प्रधानमंत्री-पद का उम्मीदवार घोषित किया. हाँ, इतना जरूर है कि पिछले दिनों भाजपा ने गोवा मे चल रही अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में सर्वसम्मति से नरेन्द्र मोदी को चुनाव समिति का अध्यक्ष बना दिया था. पर चुनाव समिति का अध्यक्ष तय करना तो हर राजनीति-पार्टी का अधिकार है. इसपर किसी दूसरे दल को आपत्ति क्यो हो यह बात समझ से परे है. नीतीश  कुमार द्वारा रचित सिद्धांत की परिभाषा वास्तव मे सिद्धांत न होकर सिद्धांत की आड मे एक समझौता मात्र है और अब उन्होने भी जनता दल सेकुलर की तरह समझौता तोडकर बिहार की जनता के उस विश्वास को तोड दिया जिसके लिये बिहार की जनता ने राजग को अपना विश्वासमत दिया था.

शिष्टाचार : अब यह बात जगजाहिर हो चुकी है कि जनता दल (यू) राजग से किसी सिद्धांत के आधार पर अलग नही हुई अपितु अलगाव के पीछे भाजपा द्वारा नरेन्द्र मोदी को चुनाव समिति का अध्यक्ष बनाना नीतीश  कुमार को नगवार गुजरना ही प्रमुख कारण है. जनता दल (यू) का राजग से अलग होते ही भाजपा ने भी नीतीश  कुमार द्वारा वर्ष 2003 मे भुज की एक सभा मे दिये गये भाषण का एक विडियो जारी कर दिया. उस विडियों मे नीतीश  कुमार खुद तत्कालीन वहाँ के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की जमकर तरीफ करते हुए उन्हे केन्द्र की राजनीति मे आने की वकालत कर रहे हैं. यहाँ हमे यह नही भूलना चाहिये कि वर्ष 2002 मे साबरमती एक्सप्रेस के एक डिब्बे मे कारसेवकों को जलाने से गोधरा मे साम्प्रदायिक दंगे भडके थे. जब वह वीडियों सार्वजनिक हुआ तो नीतीश  कुमार ने सफाई देते हुए कहा कि उन्होने उस समय ऐसा “शिष्टाचार” के नाते कहा था. पर यह नही बताया कि उस “शिष्टाचार” के चलते उन्होने अपने “सिद्धांतों” से समझौता क्यों किया साथ ही रामविलास पासवान की तरह वे उस समय राजग से अलग क्यों नही हुए ? साथ ही उनकी नजर में यदि अयोध्या के विवादित ढाँचे को ध्वस्त करने के आरोपी लालकृष्ण आडवाणी पंथनिरपेक्ष है तो 2002 के गुजरात दंगो के चलते नरेन्द्र मोदी साम्प्रदायिक कैसे है ? जाहिर सी बात है कि नीतीश  कुमार के सामने ऐसे कई सवाल है जो उनका पीछा हमेशा करते रहेंगे.

अवसरवादी राजनीति : हमे यह कहने मे कोई संकोच नही होना चाहिये कि आज के राजनेता पंथनिरपेक्षता और साम्प्रदायिकता की आड मे अपनी राजनैतिक रोटियाँ सेकते है. दरअसल गठबन्धन के इस दौर में अवसरवादिता की राजनीति करना आज के राजनीतिक दलों की मजबूरी बन गई है. वर्तमान परिदृश्य में नीतीश  कुमार भी इसका अपवाद नही है यह उन्होने राजग से अलग होकर सिद्ध कर दिया. समता पार्टी से जनता दल (यू) तक के सफर मे नीतीश  कुमार ने जार्ज़ फर्नाडीस सहित उन्हे ही सबसे पहले छोडा जिन्होने उनपर विश्वास कर उन्हे चोटी तक पहुँचाया. बिहार मे न्यूनतम मजदूरी के आंकडे देकर नीतीश कुमार बिहार-विकास की बात चाहे जितनी कर ले पर उनकी मंशा अब किसी से छुपी हुई नही है. वास्तविकता यह है कि समावेशी विकास के नाम पर नीतीश कुमार अति पिछडा व महादलित के जातीय समीकरण के चलते राजनीति की बिसात पर अपनी राजनैतिक चाल चलते हुए मुस्लिम वोट को अपनी तरफ खीचना चाहते है और अब उनका ध्यान 2014 के लोकसभा चुनाव से अधिक 2015 के बिहार विधान सभा के चुनाव पर अधिक है.

Comments (Leave a Reply)