ibtl blogs

  • मुकुल मिश्रा
  • असम एक ज्वालामुखी पर बैठा है : जलता रहेगा बोडोलैंड

    Tuesday, Aug 21,2012, 16:31 IST .

    जुलाई के तीसरे सप्ताह में शुरू हुए असम दंगों की आग अब तक ठंड़ी नहीं हुई है। ऐसा भी नहीं कि यह आग असम तक ही सिमित रही है, इसका धुँआ पूरे देश में उठ रहा है। मुंबई के आजाद मैदान में जो तांडव हुआ, तालिबानी धमकियों के बाद उत्तर-पूर्व के लोगों का जिस तरह से पलायन हुआ, जिस तरह से लखनऊ में पत्रकारों की धुनाई हुई, उससे यह स्पष्ट है कि मामला खत्म नहीं हुआ है। ऐसे में देश के वामपंथी किस्म के ‘बुद्..

  • नितीश कुमार का समाजवादी रंग

    Monday, Jun 25,2012, 13:13 IST .

    अब यह लगभग स्पष्ट है कि नितीश कुमार राजग का हिस्सा बने रहना नहीं चाहते हैं (मैं जनता दल यूनाइटेड इसलिए नहीं कह रहा हूँ कि शरद यादव राजग से विलग होना नहीं चाहते)। उन्हें यह ‘समझ’ में आ गया है कि भाजपा ‘सांप्रदायिक’ दल है और ‘लोहिया की धारा’ से निकले होने के कारण उन्हें भाजपा के साथ खड़ा नहीं होना चाहिए। यह अलग बात है कभी लोहिया भी जनसंघ के साथ खड़े हुए थे और न..

  • स्वातंत्र्यवीर विनायक दामोदर सावरकर

    Thursday, May 31,2012, 12:27 IST .

    यह कहा जाए कि आधुनिक भारतीय इतिहास में जिस महापुरुष के साथ सबसे अधिक अन्याय हुआ, वह सावरकर ही हैं तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। सावरकर ‘नाख़ून कटाकर’ क्रन्तिकारी नहीं बने थे। 27 वर्ष की आयु में, उन्हें 50-50 वर्ष के कैद की दो सजाएँ हुई थीं। 11 वर्ष के कठोर कालापानी के सहित उन्होंने कुल 27 वर्ष कैद में बिताए। सन 1857 के विद्रोह को ‘भारत का प्र..